Blog

1.jpg
27/Feb/2021

ENTs And Thyroid Conditions!

Once patients develop a thyroid condition, the way they approach it changes. The thyroid gland is located in the lower neck and is responsible for metabolism growth and development. When the thyroid is in jeopardy, both children and adults face an uphill battle to get well. The professional ear, nose and throat (ENT) can treat several different thyroid conditions.

The following four thyroid disorders require professional treatment before they become too dangerous.

Hypothyroidism: When the body lacks the thyroid hormone that it normally produces, hypothyroidism becomes a problem. The cause of this can be a gland that doesn’t work or a missing gland in the body.

Hyperthyroidism – the opposite of hypothyroidism. The body produces the thyroid hormone in excess, which is just as bad as it does under production. Grave’s Disease falls within this category and is common.

Thyroiditis-The inflammation of the thyroid gland is called thyroiditis. Some variations may be due to infection, so patients with sinus conditions are the most vulnerable. Some early stages of hyperthyroidism are turning into thyroiditis.

Thyroid Nodules: Thyroid bumps can go from small to large if left unchecked. This is the most visual of all four thyroid conditions and should be checked immediately by a professional.

Treatment Options Available :

Thyroid conditions and their treatment options are based on the type and the need for an ENT specialist. Thyroid nodules usually fall within the competence of ENT specialists. Ultrasound gives doctors an idea of what they are dealing with and whether surgery is required. Biopsies for thyroid and surgeries are safe once the necessary information on the condition has been collected. Doctors will perform thyroid function tests, ultrasound, fine-needle aspiration biopsy, and regular thyroid scans. All this is done to determine if the nodule is cancerous because it involves a completely dissimilar treatment.

Nodules are treated with thyroid hormone suppression surgery. There are anti-thyroid drugs available, like methimazole, that work great for methimazole.

There are anti-thyroid drugs available, such as methimazole, that work great for some patients. If the size of the thyroid nodule is small enough, physicians may wait to see how it develops over time. This allows them to run further tests to ensure that they don’t get worse while allowing the body to correct the thyroid problem itself. If the condition is going to get better, treatment is not necessary.

What is done during the surgery?

The surgeon will cut a 3-to 5-inch incision across the base of your neck in front of the surgery. The skin and muscle is pulled back to expose the thyroid gland. The incision is usually made in such a way that it falls in the fold of the skin in your neck, making it less noticeable.

Blood supply to the gland is “removed”, and the parathyroid glands are observed. The surgeon separates the trachea from the thyroid gland and removes all or part of the gland.

 


best-sinusitis-treatment-india-500x500-min.jpg
27/Feb/2021

Saviour Sinus Surgery!

Do you ever feel that the only way to clear your sinuses is to explode a nuclear missile down your nose? Gone are the days when it was supposed to feel that impossible. Sinus surgery, also known as Functional Sinus Endoscopic Surgery, makes it possible for you to live a sinus free life and breathe with ease. 

Sinuses are air cavities present between the bones of the face. These cavities, which are opened in the nose through small holes, are called Ostia. The wall of the cavities is lined with mucus. This mucus is drained out of the Ostia. FESS is a surgery to unblock the openings of the sinuses. 

Sinus surgery may be necessary when these infections are recurrent or persistent. Sinus surgery is most commonly used to treat chronic sinusitis (inflammation of the nose and sinuses) but maybe needed for other sinus problems.

Surgery involves widening the openings between the sinuses and the inside of the nose so that the air can get in and the drainage can get out. It may involve the removal of infected sinus tissue, bone or polyps. Modern sinus surgery has less post-operative bleeding, is less invasive and involves a shorter recovery time than previous sinus surgery.

 

There are two kinds of sinus surgery :

Functional sinus endoscopic surgery (FESS): This is the most common type of sinus surgery. It is done by looking through the nose with a nasal endoscope (a small telescope) to see the nose’s inside and the entrances to the sinuses. The same nostril uses other instruments to perform the procedure.

Image-guided surgery: FESS is often performed with an image-guided system that uses computed tomography (CT) scans to help the surgeon identify anatomy and remove only the required tissue. This helps the surgeon know when they are getting close to the sine margin and thus improves safety.

Other procedures may be used for more serious sine problems, including the Caldwell Luc operation and endoscopic skull base surgery.

Measures were taken before the surgery :

Your doctor will perform a preoperative screening and may prescribe medicines to prevent infection, swelling or other complications during the procedure. After midnight, the night before surgery, you won’t be able to eat or drink anything. Your doctor should inform you of any medications or supplements that may lead to bleeding before surgery, such as aspirin and ibuprofen.

The procedure of the surgery :

The surgery is performed under general or local anaesthesia. Surgeons, with the help of endoscopic cameras, widen the view inside the nose to obtain clarity. Surgeons identify infected, swollen sinuses. The Ostia (holes to the nose) is enlarged to increase the drainage from the sinuses. This reduces the chance of recurrence and clears the inflammation. FEZS relieves the pain and heals the sinuses and the openings.

Post-surgery measures:

You will receive local or general anaesthesia (most often general anaesthesia). The surgery may last from 1 to 3 hours or more, depending on the type of surgery being performed. Upon completing the surgery, you will be taken to the recovery room to wake up from the anaesthetic. Before you leave the surgery centre, you will be given instructions on what to do at home to help speed up your surgery.

 


1802406a-c93d-43c3-8302-9c8bd50cef68-min.jpg
27/Feb/2021

If you have a stuffy nose with difficulty breathing or have an unbearable earache, an ENT— ear, nose and throat doctor—is definitely the specialist you need to see. Pain in your face, difficulty swallowing, dizziness, snoring, and hearing problems are other signs that need to be seen by your doctor. They treat conditions that affect your ears, nose, throat, sinuses, mouth, and parts of your neck. ENT’s are one of the most commonly visited doctors for various reasons. In this article, we will discuss a few to help you discover when and why you might need an appointment with your nearest ENT!

If you have a Chronic Sinus Infection :

Your sinuses are open voids in the bones that lie behind your nose and around your eyes. In the sinuses, the mucus filters the air you breathe and drains through your nose. An infection can develop if the mucus is blocked and cannot drain properly. Viruses, bacteria, or other germs may cause sinus infections—or sinusitis. Then you can get congested and have pain or pressure in your face.

The ENT may diagnose and treat these common infections. The doctor may prescribe medication to relieve your pain and congestion. They explain what you can do to prevent the development of sinus infections.

If you have repetitive episodes of tonsillitis :

Tonsillitis affects both adults and children. If you find yourself getting a lot of bad sore throats or tonsillitis, it could mean it’s time to get your tonsils out and enjoy some ice cream. However, if you have difficulty breathing, swallowing saliva, severe pain, and high temperatures, it is good to see an ENT for diagnosis and learn treatment options.

If you have recurrent ear infections :

Ear infections are prevalent in children but also in adults. Infections of the ear often involve inflammation of the middle ear. This happens when an allergy or infection causes mucus and germs to build up behind your ear. The result is often pain and hearing difficulties. A severe ear infection can cause your ear to burst. An adult earache can also cause a tumour or growth in the throat. ENTs have special tools to look deep inside their ears. They can also run tests to determine if there is fluid or too much pressure in your ear. Your ENT may prescribe medication to remove an ear infection. Your doctor may also suggest some home remedies, such as a warm compress over your ear to ease your pain. Early treatment of ear infections may prevent them from spreading or lead to complications.

कान में संक्रमण- सामान्य कान की समस्याएं और आप उनके बारे में क्या कर सकते हैं

 

If you have vertigo :

If you feel dizzy, you might feel dizzy. You might feel like you’re swinging or spinning, even when you’re still standing. The inner ear helps to control your balance. Infection or other problems with the inner ear can lead to dizziness. This condition can also cause other medical problems that affect the brain. The ENT is trained to find the cause and help you manage the condition. Sometimes this involves taking medication, doing some exercises, or changing your diet. For example, you may need to limit caffeine and alcohol, drink more water, or drink less salt.

If you have certain allergies :

Allergic reactions can occur anywhere in the body. This includes the skin, eyes, stomach lining, nose, sinuses, throat, and lungs. These are the places where immune system cells are found to fight off germs inhaled, swallowed, or come into contact with the skin.

 


1802406a-c93d-43c3-8302-9c8bd50cef68-min.jpg
02/Oct/2020

इयर वैक्स श्रवण प्रणाली का एक अनिवार्य हिस्सा है जो भूरे या पीले रंग के पदार्थ जैसा होता है। यह पदार्थ कान के अंदर मौजूद होता है और महत्वपूर्ण है क्योंकि यह न केवल कान के भीतर स्नेहन के साथ मदद करता है, बल्कि इसलिए भी है क्योंकि यह बैक्टीरिया, पानी और कीड़े को बे में रखने में मदद करता है। इसलिए, यह पदार्थ आपके स्वास्थ्य के लिए एक समस्या नहीं है। हालांकि, ईयर वैक्स की अधिकता से समस्याएं हो सकती हैं, और यह तब है जब इसका इलाज करने की आवश्यकता होती है।

इयर वैक्स क्या होता हैं ?

आपका कान नहर सेरामन नामक वैक्सी तेल का उत्पादन करता है, जिसे आमतौर पर इयरवैक्स के रूप में जाना जाता है। यह वैक्स कान को धूल, बाहरी कणों और सूक्ष्मजीवों से बचाता है। यह कान नहर की त्वचा को पानी के कारण होने वाली जलन से भी बचाता है। यह सिरामिनियस ग्रंथियों के स्राव द्वारा कान नहर के बाहरी कार्टिलाजिनस भाग में निर्मित होता है और आमतौर पर नरम और भूरे रंग का होता है।

कान में अतिरिक्त इयर वैक्स के जोखिम

आमतौर पर आपका शरीर जानता है कि वास्तव में कितना इयरवैक्स का उत्पादन करना है। जब तक आप एक स्वस्थ आहार बनाए रखते हैं, तब तक अच्छी स्वच्छता रखें और अपने जबड़े को चबाएं, आपके कान स्वाभाविक रूप से अतिरिक्त ईयरवैक्स, गंदगी और मलबे को बाहर निकाल देंगे।कान में बड़ी मात्रा में ईयर वैक्स होने से सुनने में समस्या हो सकती है और यहां तक ​​कि इससे गंभीर नुकसान भी हो सकता है। इसलिए, समस्या का इलाज करना महत्वपूर्ण है ताकि आप पहले की तरह स्पष्ट रूप से सुन सकें। तनाव और भय भी ईयरवैक्स के उत्पादन में तेजी ला सकते हैं। क्योंकि वही एपोक्राइन ग्रंथियां जो पसीने का उत्पादन करती हैं वे भी सेरुमेन का उत्पादन करती हैं।

कान के मैल को साफ़ करने के लिए इयर बड का इस्तेमाल ना करे

क्यों आपको इयर बड का उपयोग नहीं करना चाहिए अपने कान के मैल को साफ करने के लिए

  • नहाने के बाद अपने कानों को साफ करने के लिए ईयर बड का इस्तेमाल करना आम बात है। इयर बड के इस्तेमाल से कान में चोट लग सकती है।
  • अपने कान के बाहरी हिस्से को साफ करने के लिए ईयर बड्स का उपयोग ठीक है लेकिन जब आप इनका इस्तेमाल अपने कानों के अंदरूनी हिस्से को साफ करने के लिए करते हैं, तो आप इसे कान की नहर में गहराई से धकेलते हैं।कभी-कभी, ईयरवैक्स के साथ, आप वैक्स में मौजूद बाहरी कणों को भी नीचे धकेल देते हैं जिससे कान में दर्द और सुनने में परेशानी हो सकती हैं।
  • सफाई के लिए आपके कान का अपना सिस्टम है। आमतौर पर, जब आप एक शॉवर लेते हैं तो आपके कान साफ ​​हो जाते हैं क्योंकि पानी और साबुन आपके कानों में प्रवेश करते हैं जो मैल को ढीला करते हैं। ढीला मैल अपने आप निकल आता है
  • इयर वैक्स एक कारण के लिए है। यह आपके कान नहर को धूल, सूक्ष्मजीव और बाहरी कणों से बचाता है। यह आपके कान की त्वचा को चिकनाई भी देता है और इसके जीवाणुरोधी गुणों के कारण संक्रमण को रोकता है।
  • इयर बड के इस्तेमाल से आपके कान ब्लॉक हो सकते हैं। ईयरवैक्स ब्लॉकेज से चक्कर आना, खुजली, सुनने की हानि और कान में दर्द हो सकता है।
  • जैसा कि हमने बताया की ईयर वैक्स आपके कानों की त्वचा को चिकनाई भी देता है। इसलिए, जब आप वैक्स निकालते हैं, तो त्वचा शुष्क और खुजलीदार हो जाती है। आपके कानों को भी संक्रमण होने का खतरा हो सकता हैं।

कान में मैल होने के लक्षण

  1. कान में दर्द होना
  2. टिनिटस
  3. कान में खुजली होना
  4. कान बहना व बदबू आना
  5. कान में संक्रमण हो जाना

ENT स्पेशलिस्ट से सहायता प्राप्त करना

ईयर वैक्स के लिए प्रभावी उपचार हैं और आपको या तो सॉफ़्नर दिए जाएंगे जो इयरवैक्स को नरम कर देगा और आसानी से हटाने योग्य बनाने में मदद देगा। व्यक्ति को ईयरवैक्स को स्वयं हटाने की कोशिश करने के बजाय चिकित्सकीय सलाह लेनी चाहिए। एक ENT स्पेशलिस्ट कान की जांच करने के लिए एक चिकित्सा उपकरण का उपयोग करेगा जिसे अरिस्कोप, या ओटोस्कोप कहा जाता है। वे इयरवैक्स के एक बिल्डअप की जांच करेंगे और आगे के ट्रीटमेंट के  लिए सुझाव देंगे।

आपको कभी भी अपने आप इयरवैक्स हटाने का प्रयास नहीं करना चाहिए। इससे आपके कान को बड़ी क्षति हो सकती है और संक्रमण या सुनने के क्षमता में हानि हो सकती है।


Rhinoplasty3-min.png
25/Sep/2020

नाक हमारे चेहरे और उसके आकार का एक प्रमुख हिस्सा है और चेहरे की सुंदरता और मनभावन लुक के लिए बहुत कुछ देती है। जिस तरह से उनकी नाक दिखती है उससे कई लोग कम आत्मविश्वास या हीन भावना से ग्रस्त होते हैं। एक सीधी और सुडौल नाक किसी के व्यक्तित्व में अधिक आकर्षण जोड़ती है, जबकि एक कुटिल और विकृत नाक इससे अलग हो जाती है।जन्म के दौरान होने वाले दोष या बाद में लगी चोट को ठीक करने के लिए लोग नाक की सर्जरी करवाते हैं। कभी-कभी यह बेहतर सांस लेने में कठिनाई के लिए भी किया जाता है। कुछ लोग जो अपनी नाक की बनावट से बहुत खुश नहीं हैं, वे भी अपनी नाक और चेहरे के लुक को बेहतर बनाने के लिए नाक की सर्जरी करवाते हैं।

राइनोप्लास्टी सर्जरी क्या है?

राइनोप्लास्टी सर्जरी जिसे आमतौर पर नाक की सर्जरी भी कहा जाता है, इसे हड्डी या उपास्थि को संशोधित करके नाक के आकार को ठीक करने के लिए किया जाता है। राइनोप्लास्टी, प्लास्टिक सर्जरी के सबसे सामान्य प्रकारों में से एक है। कॉस्मेटिक नाक की सर्जरी, जिसे राइनोप्लास्टी के रूप में भी जाना जाता है,आपकी नाक की उपस्थिति और अनुपात में सुधार कर सकता है जो चेहरे की सद्भाव और आत्मविश्वास को बढ़ाता है।

राइनोप्लास्टी कब करवा सकते हैं

लोगों को चोट लगने, सांस लेने की समस्या या जन्म दोष को ठीक करने के लिए या अपनी नाक की बनावट से नाखुश होने के कारण अपनी नाक राइनोप्लास्टी करवाते हैं।

राइनोप्लास्टी के माध्यम से आपके सर्जन द्वारा आपकी नाक में किए जाने वाले संभावित बदलावों में शामिल हैं:

  • आकार में बदलाव
  • कोण में परिवर्तन
  • ब्रिज का सीधा होना
  • टिप का आकार बदलना
  • नासिका का संकुचित होना

यदि आप राइनोप्लास्टी अपने स्वास्थ्य के बजाय अपनी सुंदरता को बेहतर बनाने के लिए करवाना चाह रहे हैं तो आपको तब तक इंतजार करना चाहिए जब तक कि आपकी नाक की हड्डी पूरी तरह से विकसित न हो जाए। लड़कियों के लिए, यह उम्र 15 वर्ष है। हालाँकि, यदि आपको सांस लेने में तकलीफ हो रही है, तो छोटी उम्र में राइनोप्लास्टी की जा सकती है।

राइनोप्लास्टी सर्जरी के लाभ

  1. सर्जरी नाक के अनुपात में सुधार करके न केवल चेहरे के सद्भाव को बढ़ाती है, बल्कि आत्मविश्वास भी बढ़ाती है
  2. साइनस की समस्या, खर्राटे की समस्या, सिर दर्द और लगातार नाक मेंकंजेस्शन को ठीक करता है
  3. यह जन्म दोष से पीड़ित लोगों में सांस लेने में सुधार करता है
  4. यह सर्जरी टूटी हुई नाक को ठीक भी करती है
  5. नाक की नोक और ब्रिज  को कम करता है

राइनोप्लास्टी के जोखिम

सभी सर्जरी की तरह राइनोप्लास्टी में भी इससे जुड़ी कुछ जटिलताएँ या दुष्प्रभाव हैं। इसमें शामिल है: रक्तस्राव, संक्रमण और राइनोप्लास्टी या नाक की सर्जरी के अन्य दुष्प्रभावों में नाक से खून बहना, निशान, सांस लेने में कठिनाई और नाक का सुन्न होना शामिल है।

भारत में राइनोप्लास्टी सर्जरी की लागत क्या है?

हालाँकि राइनोप्लास्टी सर्जरी की लागत काफी हद तक सर्जरी की जटिलता पर निर्भर करती है, लेकिन यह आप भारत में लगभग रु 40,000 से 2 लाख तक करवा सकते हैं

राइनोप्लास्टी के लिए आप हमे क्यों चुने ?

कॉस्मेटिक नाक सर्जरी पर विचार करते समय, हमेशा विशेष प्रशिक्षण और महत्वपूर्ण अनुभव के साथ सरकार से प्रमाणित कॉस्मेटिक सर्जन की तलाश करें।राइनोप्लास्टी करवाने से पहले अपने कॉस्मेटिक सर्जन से उसकी साख, प्रशिक्षण और उसके द्वारा की जाने वाली प्रक्रियाओं के बारे में पूछें।


best-sinusitis-treatment-india-500x500-min.jpg
01/Sep/2020

साइनसाइटिस से भारत बहुत पीड़ित है, एक ऐसी स्थिति जिसमें आपकी नाक में साइनस की सूजन शामिल है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इंफेक्शियस डिजीज  के अनुसार, लगभग 14 करोड़ भारतीय क्रोनिक साइनसिसिस से पीड़ित हैं। यह बीमारी हर आठ में से एक भारतीय को प्रभावित करती है।भारतीयों में यह रोग मधुमेह, अस्थमा या हृदय रोग की तुलना में अधिक व्यापक है।साइनस की समस्या और साइनस से संबंधित लक्षण आम कारण हैं जिसकी वजह से लोग डॉक्टरों को दिखाते हैं। लक्षणों में माथे में या आंखों के बीच दर्द, दांत दर्द, मध्य चेहरे में परिपूर्णता की भावना, भरी हुई नाक और कंजेशन शामिल हैं।

साइनसाइटिस पर कुछ तथ्य- यहाँ साइनसाइटिस के बारे में कुछ मुख्य बिंदु दिए गए हैं:

  • एलर्जी, बैक्टीरिया या वायरस से साइनस, या साइनसाइटिस की सूजन हो सकती है।
  • यह आमतौर पर उपचार के बिना चला जाता है, लेकिन कभी-कभी चिकित्सा ध्यान देने की आवश्यकता होती है।
  • क्रोनिक साइनसिसिस 12 सप्ताह से अधिक रहता है

साइनसाइटिस के लक्षण

संक्रमण की गंभीरता के आधार पर लक्षण भिन्न होते हैं।यदि रोगी को निम्न लक्षणों में से दो या अधिक होते हैं और गाढ़ा, हरा या पीला नाक स्राव होता है, तो उन्हें तीव्र साइनसिसिस हो सकता है।

  • चेहरे का दर्द और दबाव
  • बंद नाक
    नाक बहना
  • गंध की भावना कम होना
  • कंजेशन
  • खांसी

एडवांस मामलों में, निम्नलिखित लक्षण भी मौजूद हो सकते हैं:

  • बुखार
  • दुर्गंध, या दुर्गंधयुक्त सांस
  • थकान
  • दांत दर्द
  • सरदर्द

यदि ये लक्षण 12 सप्ताह या उससे अधिक समय तक जारी रहते हैं, तो चिकित्सा ध्यान देने की आवश्यकता होती है

साइनसाइटिस के कारण

साइनसाइटिस विभिन्न कारकों से स्टेम कर सकता है, लेकिन यह हमेशा साइनस में तरल पदार्थ के फंसने के परिणामस्वरूप होता है। इससे कीटाणुओं का विकास होता है।

  1. वायरस: वयस्कों में, साइनसाइटिस के 90 प्रतिशत मामलों में वायरस होता है
  2. बैक्टीरिया: वयस्कों में, 10 में 1 मामला बैक्टीरिया के कारण होता है
  3. प्रदूषक: हवा में रसायन या अड़चनें बलगम का निर्माण कर सकती हैं

यहाँ साइनस के लिए प्रभावी उपचार हैं जो प्राकृतिक रूप से समस्या से निपटने में आपकी मदद कर सकते हैं

  • हाइड्रेटेड रहना- चीनी के बिना पानी, चाय या जूस पीना आपके सिस्टम को हाइड्रेट रखने के अच्छे तरीके हैं। ये तरल पदार्थ बलगम को बाहर निकालने में मदद करते हैं। शराब, कैफीन और धूम्रपान से बचना चाहिए।
  • आराम करे
  • गर्म पानी के साथ भाप साँस लेना
  • घर के अंदर रहें और ठंडे, नम वातावरण, धुएं और प्रदूषण से दूर रहें
  • चेहरे पर गर्म सेक, दर्द को कम करने में मदद करता है

frequently asked questions (FAQs)

साइनस संक्रमण से छुटकारा पाने का सबसे तेज़ तरीका क्या है?

भाप साँस लेना, दर्द पर गर्म सेक और पर्याप्त आराम करें।

साइनसाइटिस किस कारण से बनता है?

वायरल संक्रमण साइनसाइटिस का सबसे आम कारण है।

यदि आप साइनस संक्रमण का उपचार नहीं करते हैं तो क्या होगा?

अनुपचारित संक्रमण आंखों, नाक और मस्तिष्क में फैल सकता है।

साइनसाइटिस के लक्षण और उपचार क्या हैं?

साइनसाइटिस नाक में कंजेशन, सिरदर्द और चेहरे के दर्द का कारण बन सकता है। उपचार, चिकित्सा सलाह के तहत निर्भर करता है।


ear-infection-today-main-200409_f53dc5cb604000ca6c18d3193873727e.fit-1240w-min-1200x600.jpg
01/Sep/2020

कान की समस्याएं बहुत असहज और अप्रिय हो सकती हैं विशेष रूप से बच्चों में I हालाँकि, वे आम तौर पर दीर्घकालिक समस्याओं का कारण नहीं बनते हैं। यहाँ कानों की शीर्ष समस्याएं हैं और उनसे कैसे निपटें जिससे  वे बहुत अधिक पीड़ा या कष्ट का कारण नहीं बन सके।दो या तीन दिन से ज्यादा कान दर्द रहने पर डॉक्टर से संपर्क करना ही बेहतर है।कान में संक्रमण होना, वैक्स का बहुत ज्यादा या कम बनना आदि सामान्य समस्याएं लापरवाही करने पर बहरेपन तक ले जा सकती है।

कान में संक्रमण

कान के संक्रमण सबसे आम कारणों में से एक हैं जिसकी वजह से माता-पिता अपने बच्चों को डॉक्टर के पास ले जाते हैं। जबकि कान के संक्रमण विभिन्न प्रकार के होते हैं, सबसे आम को ओटिटिस मीडिया कहा जाता है, जिसका अर्थ है मध्य कान की सूजन और संक्रमण।यद्यपि बच्चों में कान के संक्रमण विशेष रूप से आम हैं, वयस्क भी इस प्रकार के संक्रमणों के लिए अतिसंवेदनशील होते हैं।

क्या कारण हो सकते हैं कान के संक्रमण के लिए ?

कान में संक्रमण बैक्टीरिया या वायरल हो सकता है और आम तौर पर कान के ड्रम के पीछे होता है। आपके कान के इस भाग को ‘मध्य कान’ कहा जाता है। एकान में संक्रमण के कारणों में शामिल हो सकते हैं: एलर्जी, जुकाम, साइनस संक्रमण, अधिक बलगम, धूम्रपान और हवा के दबाव में परिवर्तन।

मध्य कान का संक्रमण

मध्य कान के संक्रमण आमतौर पर बैक्टीरिया या वायरस का परिणाम होते हैं जो आपके मुंह, आंखों और नाक के मार्ग से शरीर में प्रवेश करने के बाद कान के ड्रम के पीछे फंस जाते हैं। आपके कान का यह भाग फिर सूज जाएगा और आमतौर पर कान के अंदर तरल पदार्थ का निर्माण होगा। यह कान के संक्रमण से पीड़ित के लिए बहुत दर्दनाक हो सकता है और अस्थायी रूप से सुनने की शक्ति को प्रभावित कर सकता है।

बाहरी कान में संक्रमण

बाहरी कान का संक्रमण वयस्कों में कम बार होता है, क्योंकि इस तरह की स्थिति कान के ड्रम के बाहर और कान नहर से कान के बाहर खुलने से होती है। इस संक्रमण के सामान्य लक्षण कान के बाहर खुजली और कान या कान नहर की सूजन है।बाहरी कान आपके कान का वह हिस्सा होता है, जो आपके ईयरड्रम से आपके सिर के बाहर तक फैला होता है। बाहरी कान के संक्रमण को ओटिटिस एक्सटर्ना के रूप में भी जाना जाता है। बाहरी कान का संक्रमण अक्सर एक खुजली दाने के रूप में शुरू होता है।

क्रोनिक कान में संक्रमण

क्रोनिक कान के संक्रमण अधिक गंभीर हैं। इस प्रकार का कान संक्रमण आसानी से साफ नहीं होता है और कई बार पुनरावृत्ति कर सकता है, जिसका अर्थ है कि यह ठीक नहीं होता है। मध्य कान, या सबसे खराब स्थिति में स्थायी क्षति को रोकने के लिए संक्रमण के लक्षण एक सप्ताह से अधिक समय तक बने रहने पर डॉक्टर को देखना महत्वपूर्ण है

कान में संक्रमण के लक्षण

बच्चो में 

कानों के अंदर दर्द और उच्च तापमान के बीच, बच्चे अक्सर अन्य लक्षण दिखा सकते हैं कि वे कान के संक्रमण से पीड़ित हैं। इन संकेतों को देखना महत्वपूर्ण है:

  • कानों को रगड़ना या खींचना
  • चिड़चिड़ापन या बेचैनी
  • भूख में कमी

व्यस्को में 

  • कान के अंदर दर्द या सूजन
  • जी मिचलाना
  • थकान
  • सुनने में कठिनाई
  • कान के भीतर और आसपास खुजली और जलन

कान का संक्रमण कितने समय तक रहता है?

लगभग 3 दिनों तक चलने वाले कान के संक्रमण आमतौर पर अपने आप साफ हो जाते हैं। कान में संक्रमण या तो क्रोनिक या तीव्र हो सकता है।कान का इन्फेक्शन वयस्कों या बच्चों में संक्रामक नहीं है। हालांकि, बच्चे एक खराब सर्दी या अन्य संक्रामक वायरस के परिणामस्वरूप कान के संक्रमण के लक्षण विकसित करते हैं। ये इन्फेक्शन होते हैं और एक व्यक्ति से दूसरे में फैल सकते हैं।

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए

डॉक्टर को दिखाना महत्वपूर्ण है यदि 3 दिनों के बाद आपकी स्थिति में सुधार नहीं हुआ है, खासकर अगर नए लक्षण दिखाई देने लगते हैं।अपने डॉक्टर के साथ अपॉइंटमेंट के दौरान, एक ओटोस्कोप का उपयोग करके कान के संक्रमण की पहचान की जा सकती है जो कान में हवा के एक कश का उत्सर्जन करेगा। यह डिवाइस एक हैंडहेल्ड डिवाइस है जिसमें एक लाइट और मैग्नीफाइंग लेंस लगा होता है जिसे डॉक्टर आमतौर पर आपके कान में देखने के लिए इस्तेमाल करते हैं।

कान में संक्रमण के बचाव

यह महत्वपूर्ण है कि हम कान के संक्रमण जैसी स्थितियों को होने से रोकने के लिए अपने कानों की देखभाल करें।अपने कानों को साफ करने के लिए, आप कॉटन सवाब का उपयोग करके उन्हें धीरे से साफ़ कर सकते हैं और शॉवर लेने के बाद अपने कानों का अच्छी तरह से सूखना सुनिश्चित करेंI




Copyright by Brandingpioneers 2019. All rights reserved.



Copyright by Brandingpioneers 2019. All rights reserved.



Appointment